अपनी प्रोपर्टी को बेचने से पहले इन जरूरी बातो का रखे ख्याल

अपनी प्रोपर्टी को बेचने से पहले इन जरूरी बातो का रखे ख्याल
अपनी प्रोपर्टी को बेचने से पहले इन जरूरी बातो का रखे ख्याल
Spread the love

अपनी प्रोपर्टी को बेचने से पहले इन जरूरी बातो का रखे ख्याल





 

अगर आप अपनी संपत्ति बेचने की योजना बना रहे हैं तो, अपनी प्रोपर्टी को बेचने से पहले इन जरूरी बातो का रखे ख्याल आप लेन-देन के जरिये से जो पैसा कमाने वाले है उस लाभ पर कर (Tax) लगाया जाता है। भारतीय कर कानूनों (Income Tax Law) के तहत, पूंजीगत संपत्ति के हस्तांतरण यानि की बेचने से हुआ लाभ, जिसमें अन्य चीजे और संपत्ति शामिल है, “पूंजी लाभ” के तहत कर योग्य है ।

परिसंपत्ति की अवधि के हिसाब से, लाभ को अल्पकालिक पूंजीगत लाभ (एसटीसीजी) या दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ (एलटीसीजी) के अधीन (Long Term Capital Gain head) किया जा सकता है ।

“ध्यान देंने वाली बात यह है कि मौजूदा मानदंडों के तहत, दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ पर कर 20% पर लगाया जाता है, अधिभार और शिक्षा उपकर (surcharge and education cess), और अल्पकालिक लाभ 15% पर कर लगाया जाता है, अधिभार और शिक्षा उपकर (surcharge and education cess).”

 हालांकि, अगर आप एक और (Residensial property) आवासीय संपत्ति खरीदने के लिये अपनी पुरानी आवासीय संपत्ति की बिक्री की आय का उपयोग करने की योजना बना रहे हैं, तो आयकर (आई-टी) अधिनियम की धारा 54 में आपको कैपिटल गेन टैक्स का भुगतान करने से बच सकते है । इसके अलावा, इस अधिनियम की धारा 54 एफ के तहत, विक्रेता को एलटीसीजी (LTCG) कर का भुगतान करने से छूट दी जा सकती है, भले ही बिक्री योग्य संपत्ति गैर-आवासीय हो, और लाभ प्राप्त किया जा रहा है ताकि आवासीय संपत्ति खरीदने के लिए इस्तेमाल किया जाये ।

धारा 54 के तहत लाभों का लाभ उठाने के लिए नियम और शर्तें क्या हैं:

पात्रता

इस धारा के तहत लाभ लेने के लिए, विक्रेता को एक व्यक्ति या एचयूएफ (हिंदू अविभाजित परिवार) होना चाहिए। एचयूएफ में एक परिवार के सभी सदस्यों को शामिल किया गया है, जिसमें परिवार के काफी सदस्यों को शामिल किया गया है। हिंदुओं के अलावा, एचयूएफ कानून जैन, सिख और बौद्धों को भी शामिल करता हैं ।

होल्डिंग अवधि

आपके द्वारा बेची गई संपत्ति एक आवासीय संपत्ति होनी चाहिए और यह आपके द्वारा दीर्घ अवधि के लिए आयोजित की जानी चाहिए। यदि आप केवल एक अल्पकालिक अवधि के लिए संपत्ति रखते हैं, तो आप लाभ लेने के योग्य नहीं होंगे। आकलन वर्ष 2018-19 से, अचल संपत्ति के मामले में, लंबी अवधि की पूंजीगत संपत्ति के रूप में अर्हता प्राप्त करने के लिए अचल संपत्ति के मामले में 36 महीने (तीन वर्ष) से ​​24 महीने (दो वर्ष) तक कम हो जाता है।

इसे भी पढे:- दान पत्र कैसे लिखे || क्या Gift Deed की रजिस्ट्री कराना जरूरी है उसके नियम क्या है

संपत्ति की खरीद की शर्त

इस धारा के तहत लाभ उठाने की शर्त यह है कि पुरानी प्रोपर्टी बेचने से एक साल पहले नई प्रोपर्टी खरीदी जानी चाहिये, और उसके दो साल के अंदर बेची जानी चाहिये । अगर आप अपना घर बनाने की योजना बना रहे है तो यह काम आपकी पुरानी संपत्ति के हस्तांतरण की तारीख से तीन साल के भीतर किया जाना चाहिए।

अनिवार्य अधिग्रहण (Aquisition)

अनिवार्य अधिग्रहण के मामले में अधिग्रहण या निर्माण की अवधि मुआवजे की प्राप्ति (चाहे मूल या अतिरिक्त) की तिथि से निर्धारित की जाएगी ।  

आकलन वर्ष 2015-16 से प्रभावी, धारा 56 के तहत कर छूट केवल भारत में खरीद / निर्माण संपत्ति के संबंध में दावा किया जा सकता है । अगर एक से अधिक घर खरीदा या निर्मित किया जाता है, तो धारा 54 के तहत छूट एक संपत्ति के लिए ही उपलब्ध होगी ।




भारत से बाहर प्रोपर्टी खरीदने पर क्या होगा 

अगर आपने भारत में संपत्ति की बिक्री आय का उपयोग करते हुए भारत से बाहर संपत्ति खरीदी है तो भारत के बाहर खरीदे गए घर के लिए कोई छूट नहीं ली जा सकती है ।

अब इस धारा के तहत प्रदान की गई छूट की राशि क्या है?

इसे भी पढे:- Franking Charge Information In Hindi || What is Franking Charge

निम्नलिखित राशि के निचले हिस्से को छूट दी जाएगी: –

आवासीय घर के स्थानांतरण पर होने वाले पूंजीगत लाभ की राशि;

या नई आवासीय घर की खरीद / निर्माण में निवेश की गई राशि

मान लीजिए कि आपने अपनी पुरानी संपत्ति 10 लाख रुपए में बेच दी है, 1 लाख रुपए की पूंजीगत लाभ अर्जित किया है। अब, यदि आप नई संपत्ति की खरीद में 80,000 रुपये इस राशि में निवेश करते हैं, तो धारा 54 के तहत छूट 80,000 रुपये होगी, जबकि रुपये के 20,000 रुपये का कर योग्य होगा ।

यदि आप नई संपत्ति से नाखुश हैं और जल्द ही इसे बेचना चाहते हैं तो क्या होगा ?

ऐसे परिदृश्य में, आपको छूट के दावे को छोड़ देना होगा। कानून के मुताबिक, अधिग्रहण की तारीख से तीन साल के भीतर यदि आप नए घर को हस्तांतरित करते हैं, तो धारा 54 के तहत दी गई लाभ वापस ले लिया जाएगा। यह योजना अधिनियम आगे कहती है कि अगर घर के हस्तांतरण पर होने वाली पूंजीगत लाभ का उपयोग आयकर रिटर्न दाखिल करने की तारीख तक पूरे घर में नहीं किया जाता है, तो छूट का लाभ उठाया जा सकता है । यह प्रावधान लाभ जमा खाता योजना, 1 9 88 के अधिनियमन के साथ लागू हुआ है ।




आप इस राशि को जमा करने के लिए किसी सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक की किसी भी शाखा से संपर्क कर सकते हैं। नया घर खरीदने के लिये य बनाने के लिये इस पैसे को अकाउट से दो से तीन बार निकाला जा सकता है ।

want to sale your property click this link

“अपनी प्रोपर्टी को बेचने से पहले इन जरूरी बातो का रखे ख्याल”

1 Trackback / Pingback

  1. My title

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*