Code of Criminal Procedure (Crpc) Section 50 - Person arrested to be informed of grounds of arrest and of right to bail

गुवाहाटी हाईकोर्ट – पत्नी सिन्दूर नहीं लगाती तो इसका मतलब वो शादी को नहीं मानती

October 1, 2020 Legalhelpinhindi 0

‘सिंदूर’ पहनने से मना करने का अर्थ है महिला द्वारा शादी को अस्वीकार करना : गुवाहाटी हाईकोर्ट ने आदेश के खिलाफ दायर पुनर्विचार याचिका खारिज […]

लूट क्या होती है और लूट के आवश्यक तत्व का वर्णन करे

Calcutta High Court- अपराधी को मृत्युदंड देने से अपराध में कमी आएगी, ये सुनिश्चित करने के लिए ठोस सांख्यिकीय डाटा उपलब्ध नहीं है

December 6, 2019 Legalhelpinhindi 0

अपराधी को मृत्युदंड देने से अपराध में कमी आएगी, ये सुनिश्चित करने के लिए ठोस सांख्यिकीय डाटा उपलब्ध नहीं है- Death Penalty Reduces Crime, no […]

कलकत्ता हाईकोर्ट - बिना वर्दी पहने चालान या ड्राइविंग लाइसेंस जब्त करने का मामला

High Court Judgement on IPC 306 | सुसाइड नोट में लगाए गए आरोप आईपीसी की धारा 306 के तहत केस बनाने के लिए पर्याप्त नहीं है

November 12, 2019 Legalhelpinhindi 0

कर्नाटक हाईकोर्ट ने धारा 306 के तहत आरोपित एक अभियुक्त को अग्रिम जमानत देते हुए कहा है कि ”मृत्यु या सुसाइड नोट में लगाए गए […]

दुष्प्रेरण की परिभाषा- Definition of Abetment

Muhammad Zuber Farooqi vs. State Of Maharashtra | घरेलू हिंसा विदेश मे हुई हो तब भी शिकायत भारत मे कर सकते है

November 4, 2019 Legalhelpinhindi 0

बॉम्बे हाईकोर्ट ने माना है कि भारतीय अदालत का किसी भारतीय नागरिक द्वारा विदेश में की गई घरेलू हिंसा के लिए भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) […]

Guidelines on Cheque Bounce Case | चेक बाउंस के मामलों को छह महीने के भीतर निपटाना जरूरी

Guidelines on Cheque Bounce Case | चेक बाउंस के मामलों को छह महीने के भीतर निपटाना जरूरी

November 1, 2019 Legalhelpinhindi 0

उत्तराखंड हाईकोर्ट ने मामलों को तेजी से निपटाने के महत्व को मजबूत करते हुए निचली अदालत को निर्देश दिया है कि वह छह महीने के […]

How to Get Decree of Divorce in India in Hindi | भारत में तलाक की डिक्री कब और कैसे मिलती है

High Court Judgement on Mental Cruelty | जीवनसाथी द्वारा लगातार व्याभिचार (Adultry) के आरोप लगाना क्रूरता की श्रेणी में आएगा

October 28, 2019 Legalhelpinhindi 0

पारिवारिक न्यायालय (Family Court), देहरादून द्वारा पारित न्यायिक पृथक्करण के एक फैसले को पलटते हुए उत्तराखंड हाईकोर्ट ने दोहराया कि जीवनसाथी द्वारा लगातार व्याभिचार (Adultry) […]

दिल्ली हाईकोर्ट- कमाई करने में सक्षम' और 'वास्तविक कमाई' के बीच के अंतर | SH. ARUN VATS vs MS. PALLAVI SHARMA & ANR

Supreme Court Judgement on Crpc 125 | पति इस आधार पर अपनी पत्नी को तलाक़ नहीं दे सकता कि वह अब उसके साथ नहीं रह रही है

October 21, 2019 Legalhelpinhindi 2

डॉक्टर स्वपन कुमार बनर्जी बनाम पश्चिम बंगाल राज्य Diary Number 33665-2009 Judgment Case Number Crl.A. No.-000232-000233 – 2015 19-09-2019 (English) Petitioner Name DR. SWAPAN KUMAR BANERJEE […]