प्रोपर्टी पर अवैध कब्जे को लेकर सुप्रीम कोर्ट का अहम फैसला 2019 | Supreme Court Latest Judgement 2019

Spread the love

प्रोपर्टी पर अवैध कब्जे को लेकर सुप्रीम कोर्ट का अहम फैसला 2019 | Supreme Court Latest Judgement 2019


Diary Number 31875-2006 Judgment
Case Number C.A. No.-004527-004527 – 2009 29-01-2019
Petitioner Name POONA RAM
Respondent Name MOTI RAM (D) TH. LRS.
Petitioner’s Advocate PRATIBHA JAIN
Respondent’s Advocate K. V. BHARATHI UPADHYAYA
Bench HON’BLE MR. JUSTICE N.V. RAMANA, HON’BLE MR. JUSTICE MOHAN M. SHANTANAGOUDAR, HON’BLE MS. JUSTICE INDIRA BANERJEE
Judgment By HON’BLE MR. JUSTICE MOHAN M. SHANTANAGOUDAR

प्रॉपर्टी पर अवैध कब्जे को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने अपना एक अहम फैसला 29 जनवरी 2019 को दिया । सुप्रीम कोर्ट ने अपने इस फैसले में कहा, कि अगर किसी ने अस्थाई रूप से प्रॉपर्टी पर कब्जा कर लिया है, और उस प्रॉपर्टी का मालिक है यानी कि जिस व्यक्ति के नाम से वह प्रॉपर्टी रजिस्टर है । वह बलपूर्वक उस कब्जा करने वाले व्यक्ति को अपनी प्रॉपर्टी से बेदखल कर सकता है । (प्रोपर्टी पर अवैध कब्जे को लेकर सुप्रीम कोर्ट) चाहे कब्जा उसने 12 साल से ज्यादा समय से क्यों न कर रखा हो । इसके लिए प्रॉपर्टी के मालिक को कोर्ट में जाने की भी जरूरत नहीं है,  क्योंकि कोर्ट की कार्यवाही की जरूरत तभी पड़ती है,जब बिना टाइटल की प्रॉपर्टी हो और संपत्ति पर सेटल्ड कब्जा हो | (प्रोपर्टी पर अवैध कब्जे को लेकर सुप्रीम कोर्ट)

जस्टिस एन वी रमना और एम एम शांतानगोदर

यह फैसला जस्टिस एन वी रमना और एम एम शांतानगोदर की पीठ ने दिया । उन्होंने आगे यह कहा कि जब कोई व्यक्ति कब्जे की बात करता है, तो उसे प्रॉपर्टी पर कब्जे का टाइटल भी दिखाना होता है, और उसे प्रूफ करना होता है, कि वह प्रॉपर्टी उसकी है और उसी का उस पर कब्जा है। (प्रोपर्टी पर अवैध कब्जे को लेकर सुप्रीम कोर्ट का अहम फैसला)

लेकिन अगर किसी ने किसी की प्रॉपर्टी पर अस्थाई रूप से कब्जा कर लिया है, तो इस तरह के कब्जे को उस प्रॉपर्टी का जो वास्तविक मालिक है, उसके खिलाफ अधिकार नहीं मिल जाता । वास्तविक कब्जा तभी होता है, जब उस प्रॉपर्टी पर बहुत लंबे समय से कब्जा किया हो और उसका जो वास्तविक मालिक है वह चुपचाप बैठा हो ।

नीचे दिए गए जजमेंट की पूरी कॉपी पढे:-

Diary Number 31875-2006 Judgment Case Number C.A. No.-004527-004527 – 2009 29-01-2019 Petitioner Name POONA RAM Respondent Name MOTI RAM (D) TH. LRS. Petitioner’s Advocate PRATIBHA JAIN Respondent’s Advocate K. V. BHARATHI UPADHYAYA Bench HON’BLE MR. JUSTICE N.V. RAMANA, HON’BLE MR. JUSTICE MOHAN M. SHANTANAGOUDAR, HON’BLE MS. JUSTICE INDIRA BANERJEE Judgment By HON’BLE MR. JUSTICE MOHAN M. SHANTANAGOUDAR





Download PDF Copy



पूरे जजमेंट को हिन्दी मे जाने

Read this Artical

सुप्रीम कोर्ट का अहम फैसला एक कैदी की मौत की सजा को उम्रकैद में बदला

मरीज का गलत ईलाज डाॅक्टर की लापरवाही नही सुप्रीम कोर्ट का फैसला || Latest Supreme Court Judgements on Medical Negligence

 Love Marriage Police Protection || हाई कोर्ट ने लव मैरिज करने वालों को दी ऐसी प्रोटेक्शन अहम फैसला

Is IPC 307 Bailable || IPC धारा 307 मे समझौता होने से केस खतम नही होगासुप्रीम कोर्ट 

Supreme Court Judgement on Love Marriage Police Protection | Right To Choose Life Partner Is A Fundamental Right. 

प्रोपर्टी पर अवैध कब्जे को लेकर सुप्रीम कोर्ट का अहम फैसला 2019 | Supreme Court Latest Judgement 2019

(Visited 1,471 times, 2 visits today)

5 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *