Indian Penal Code (IPC) Section 307 in Hindi | आई.पी.सी.की धारा 307 में क्या अपराध होता है ?

Indian Penal Code (IPC) Section 307 in Hindi | आई.पी.सी.की धारा 307 में क्या अपराध होता है ?
Indian Penal Code (IPC) Section 307 in Hindi | आई.पी.सी.की धारा 307 में क्या अपराध होता है ?
Spread the love

Indian Penal Code (IPC) Section 307 in Hindi | आई.पी.सी.की धारा 307 में क्या अपराध होता है ?

 

IPc 307 in Hindi – हत्या करने का प्रयत्न –  यह संज्ञेय एवं अजमानतीय अपराध है | इसमें 10 वर्ष की सजा और जुर्माना दोनों हो सकते हैं | इसकी सुनवाई सेशन कोर्ट में होती है।




Section 307  Attempt to murder.

 

Section 307 – Whoever does any act with such intention or knowledge, and under such circumstances that, if he by that act caused death, he would be guilty of murder, shall be punished with imprisonment of either description for a term which may extend to ten years, and shall also be liable to fine; and, if hurt is caused to any person by such act, the offender shall be liable either to imprisonment for life, or to such punishment as is hereinbefore mentioned.

(ख) इस धारा Section 307  की जमानत कहां से होती है ?

इस धारा की जमानत कोर्ट से होती है।




(ग) क्या पुलिस को इस धारा Section 307  के आरोपी को गिरफ्तार करने के लिए वारंट दिखाने की जरूरत होती है ?

नहीं , पुलिस इस धारा के आरोपी को बिना वारंट लिए ही गिरफ्तार कर सकती है।

(घ) इस धारा Section 307  के मुकदमे की सुनवाई किस कोर्ट में होती है ?

ऐसे अपराधों को सेशन कोर्ट सुनता है।

आजीवन सिद्ध दोष द्वारा प्रयत्न – यदि ऐसे कार्य से किसी व्यक्ति को शारीरिक हानि हो जाए | यह संज्ञेय एवं अजमानतीय अपराध है | इसकी सुनवाई सेशन कोर्ट में होती है | इसमें आजीवन कारावास या 10 वर्ष की सजा और जुर्माना दोनों हो सकते हैं।




Attempts to life convicts. Section 307 IPC

When any person offending under this section is under sentence of imprisonment for life, he may, if hurt is caused, be punished with death.

(ख) इस धारा 307 IPC की जमानत कहां से होती है ?

इस धारा की जमानत कोर्ट से होती हैं।

(ग) क्या पुलिस को इस धारा 307 IPC in Hindi के आरोपी को गिरफ्तार करने के लिए वारंट दिखाने की जरूरत होती है ?

नहीं , पुलिस इस धारा के आरोपी को बिना वारंट लिए ही गिरफ्तार कर सकती है।

(घ) इस धारा के मुकदमे की सुनवाई किस कोर्ट में होती है ?

ऐसे अपराधों को सेशन कोर्ट सुनता है।




आजीवन कारावास के दंडादेश के अधीन हत्या का प्रयत्न करना –  यदि हानि कारित हो जाए

यह संज्ञेय एवं अजमानतीय अपराध है | इसमें मृत्युदंड या 10 वर्ष की सजा और जुर्माना हो सकते हैं | इसकी सुनवाई सेशन कोर्ट में होती है।

(क) इस धारा 307 IPC की जमानत कहां से होती है ?

इस धारा की जमानत कोर्ट से होती है।

(ग) क्या पुलिस को इस धारा 307 IPC के आरोपी को गिरफ्तार करने के लिए वारंट दिखाने की जरूरत होती है ?

नहीं, पुलिस इस धारा के आरोपी को बिना वारंट लिए ही गिरफ्तार कर सकती है।

(घ) इस धारा Section 307 IPC के मुकदमे की सुनवाई किस कोर्ट में होती है ?

ऐसे अपराधो को सेशन कोर्ट सुनता है।




Read More

 

  1.  बेटियों को पैतृक संपत्ति में हक पर सुप्रीम कोर्ट का ताजा फैसला
  2. भारत के संविधान का अनुच्छेद 47, (Article 47 of the Constitution) 
  3. Supreme Court Landmark Judgement on Daughters Right Father’s Property | बेटी की मृत्यु हुई तो उसके बच्चे हकदार
  4. How to Make a WILL in India – What is WILL
  5. What Kind of Judiciary is There in India | भारत में किस तरह की न्यायपालिका है
  6. Bhagat Sharan vs Prushottam & Ors – जॉइट प्रॉपर्टी के बटवारे को लेकर विवाद
  7. पति के खिलाफ झूठी शिकायत भी मानसिक क्रूरता है – False Complaints Filed by Wife is Mental Cruelty IPC 498A False Case
  8. What is Moot Court in India – मूट कोर्ट क्या है इसके फायदे बताये
  9. मोटापा कैसे काम करे 
  10. हेल्थ टिप्स 
  11. Indian Penal code Section 290 in Hindi – Dhara 290 Kya Hai | आई.पी.सी.की धारा 290 में क्या अपराध होता है
  12. Indian Penal code Section 292 in Hindi – Dhara 292 in Hindi | आई.पी.सी.की धारा 292 में क्या अपराध होता है
  13. How to Get Court Marriage in India | भारत में कोर्ट मैरिज की प्रक्रिया
  14. Indian Penal Code (IPC) Section 296 in Hindi || Dhara 296 Kya Hai || आई.पी.सी.की धारा 296 में क्या अपराध होता है ?
  15. Indian Penal Code (IPC) Section 303 in Hindi || आई.पी.सी.की धारा 303 में क्या अपराध होता है?




Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*