Definition of Court | न्यायालय की परिभाषा बताइये

Definition of Court | न्यायालय की परिभाषा बताइये
Definition of Court | न्यायालय की परिभाषा बताइये
Spread the love

Definition of Court | न्यायालय की परिभाषा बताइये

 

 न्यायालय (Court) :- धारा 2 (1) (e) के अनुसार“न्यायालय'” एक जिले में प्रारम्भिक अधिकारिता से अभिप्रेत वह प्रधान न्यायालय है और इसमें समविष्ट है उच्च न्यायालय जिसे अपने सामान्य आरम्भिक सिविल अधिकारिता के प्रयोग में माध्यस्थम् की विषय वस्तु सम्बन्धी प्रश्नों को विनिश्चित करने की अधिकारिता है, यदि वह किसी वाद की विषयवस्तु होती, न्यायालय के परिप्रेक्ष्य में प्रधान न्यायालय से निम्न श्रेणी के न्यायालय या लघुवाद न्यायालय सम्मिलित नहीं है।

 

“Court” means the principal civil court of original jurisdiction in a destrict, and includes the High court in the exercise of its ordinary original civil jurisdiction, having jurisdiction to decide, the question forming the subject-matter of the arbitration of the same had been the subject matter of a suit, but does not include nay civil court of a grade inferior to such principal civil court, or any court of small causes.

परिभाषा के अनुसार न्यायालय के निम्नलिखित गुण होने चाहिये- Definition of Court

 

1. न्यायालय एक दीवानी (Civil) न्यायालय होना चाहिये।
2. माध्यस्थ के लिये निर्देशित की गई विषयवस्तु के सम्बन्ध में वाद को सुलझाने का क्षेत्राधिकार होना चाहिये।

न्यायालय के क्षेत्राधिकार के लिए यह आवश्यक नहीं है कि सम्पूर्ण विषयवस्तु उसी के क्षेत्राधिकार में उत्पन्न हुई हो। यदि पक्षकार उसकी सीमा में रहते हैं या विवादग्रस्त सम्पत्ति उसके स्थानीय क्षेत्राधिकार में है तो उसी न्यायालय का क्षेत्राधिकार माना जायेगा।

 

परिभाषा के अनुसार मुख्य दीवानी स्तर के न्यायालय से निम्न न्यायालय तथा लघुवाद न्यायालय नहीं माना जायेगा। जिला न्यायालय प्रमुख दीवानी न्यायालय होता है। इस प्रकार जिला न्यायालय तथा उसके ऊपर के न्यायालय इस धारा में न्यायालय माने जाते हैं।

Read More

 

  1. माध्यस्थम एवं सुलह अधिनियम 1996 का संक्षिप्त इतिहास | Brief History of Arbitration and Cancellation Act 1996 

  2. What is Arbitration Agreement in Hindi | माध्यस्थम् करार क्या है

  3. Defination of Arbitral Award in Hindi | माध्यस्थूम पंचाट क्या है

  4. माध्यस्थम् तथा सुलह अधिनियम 1996 के अधिनियमित होने के कारण | Reasons for enactment of the Arbitration and Conciliation Act 1996

  5. बेटियों को पैतृक संपत्ति में हक पर सुप्रीम कोर्ट का ताजा फैसला

  6. सुप्रीम कोर्ट का अहम् फैसला रजनेश बनाम नेहा | Maintenance Awarded Must Be Reasonable Realistic

  7. IPC 44 in Hindi | Indian Penal Code Section 44 in Hindi | Dhara 44 IPC Kya Hai

  8. परिवीक्षा से आप क्या समझते हैं | What do you understand by ‘Probation’

  9. Our Foundamental Duties Explained in Hindi | हमारे मौलिक कर्तव्य

  10. Indian Penal Code Section 299 – Culpable Homicide in Hindi

  11. सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला – बहू को सास-ससुर के घर में रहने का अधिकार

  12. भारत के संविधान का अनुच्छेद 47, (Article 47 of the Constitution) 

  13. Supreme Court Landmark Judgement on Daughters Right Father’s Property | बेटी की मृत्यु हुई तो उसके बच्चे हकदार

  14. How to Make a WILL in India – What is WILL

  15. What Kind of Judiciary is There in India | भारत में किस तरह की न्यायपालिका है

  16. Bhagat Sharan vs Prushottam & Ors – जॉइट प्रॉपर्टी के बटवारे को लेकर विवाद

  17. प्रधानमंत्री जन औषधि योजना|| PMJAY

  18. Benefits of Power Yoga | What is Power Yoga | पावर योग क्या है

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*